Souptik Parva – Mahabharat Stories In Hindi: सौप्तिक पर्व में ऐषीक पर्व नामक मात्र एक ही उपपर्व है। इसमें 18 अध्याय हैं। अश्वत्थामा, कृतवर्मा और कृपाचार्य-कौरव पक्ष के शेष इन तीन महारथियों का वन में विश्राम, तीनों की आगे के कार्य के विषय में मत्रणा, अश्वत्थामा द्वारा अपने क्रूर निश्चय से कृपाचार्य और कृतवर्मा को अवगत कराना, तीनों का पाण्डवों के शिविर की ओर प्रस्थान, अश्वत्थामा द्वारा रात्रि में पाण्डवों के शिविर में घुसकर समस्त सोये हुए पांचाल वीरों का संहार, द्रौपदी के पुत्रों का वध, द्रौपदी का विलाप तथा द्रोणपुत्र के वध का आग्रह, भीम द्वारा अश्वत्थामा को मारने के लिए प्रस्थान करना और श्रीकृष्ण अर्जुन तथा युधिष्ठिर का भीम के पीछे जाना, गंगातट पर बैठे अश्वत्थामा को भीम द्वारा ललकारना, अश्वत्थामा द्वारा ब्रह्मास्त्र का प्रयोग, अर्जुन द्वारा भी उस ब्रह्मास्त्र के निवारण के लिए ब्रह्मास्त्र का प्रयोग, व्यास की आज्ञा से अर्जुन द्बारा ब्रह्मास्त्र का उपशमन, अश्वत्थामा की मणि लेना और अश्वत्थामा का मानमर्दित होकर वन में प्रस्थान आदि विषय इस पर्व में वर्णित है। 

धृष्टद्युम्न और द्रौपदी के पुत्रों का वध 

युद्ध के बाद कृष्ण पांडवों को लेकर किसी दूसरी जगह चले गए। कृपाचार्य, कृतवर्मा तथा अश्वत्थामा तीनों वीर पांडवों के शिविर के पास पहुँचकर एक पेड़ के नीचे रुक गए। अश्वत्थामा ने देखा कि रात के अँधेरे में उल्लू जैसा एक पक्षी उड़कर आया सोते हुए कौओं को एक-एक करके मार डाला। 

अश्वत्थामा ने भी निश्चय किया कि रात के समय ही शत्रु का संहार करना ठीक है। उसने कृतवर्मा तथा कृपाचार्य से अपने मन की बात कही। उन्होंने इसे अन्याय कहकर मना किया, पर अश्वत्थामा अपने पिता के हत्यारे धृष्टद्युम्न का वध करना चाहता था। वह उठा पांचालों के शिविर में घुस पड़ा। विवश होकर कृतवर्मा और कृपाचार्य को भी अपने सेनापति का साथ देने को तैयार होना पड़ा। अश्वत्थामा ने दोनों से कहा, आप द्वार पर रुकें तथा जो भी निकले उसे जीन्दा न छोड़ें। अश्वत्थामा ने सोए हुए धृष्टद्युम्न पर तलवार का वार किया तथा कोलाहल सुनकर जो भी बाहर भागा, उसे कृतवर्मा और कृपाचार्य ने मार डाला। अश्वत्थामा पांडवों के शिविर में गया तथा द्रौपदी के पाँचों पुत्रों के सिर काट डाले तथा शिविर में आग लगा दी। 

दुर्योधन की मृत्यु

अश्वत्थामा ने सोचा कि ये पांडवों के सिर हैं। वह दुर्योधन के पास पहुँचा तथा बताया कि उसने सभी पांचालों तथा पांडवों का वध कर दिया है। दुर्योधन ने भीम का सिर माँगा तथा उस पर एक मुक्का मारा तो पता चला कि यह भीम का सिर नहीं है। प्रातःकाल दुर्योधन ने देखा कि वे सिर द्रौपदी के पुत्रों के हैं तो उन्होंने कहा कि अब कुल में तर्पण करने वाला भी कोई नहीं बचा। इस प्रकार बिलखते हुए महाराज दुर्योधन का देहावसान हो गया। 

अश्वत्थामा का मणि-हरण 

प्रातःकाल होते ही पांडव अपने शिविर में आए तथा वहाँ हुई विनाश-लीला देखी। भीम क्रोध से भर गए तथा अश्वत्थामा की खोज में निकल पड़े। कृष्ण को चिंता हुई, क्योंकि वे जानते थे कि अश्वत्थामा के पास ‘ब्रह्मशिरा’ नाम का महास्त्र है जिसका प्रयोग किए जाने पर भीम नहीं बच सकते। कृष्ण, अर्जुन और युधिष्ठिर भी उसके पीछे हो लिये। अश्वत्थामा ने पांडवों को देखकर ब्रह्मशिरा अस्त्र छोड़ा और कहा सभी पांडवों का नाश हो। तभी अर्जुन ने पाशुपत महास्त्र छोड़ा। चारों ओर आग निकलने लगी। सृष्टि का नाश होता देखकर वेदव्यास तथा नारद उन अस्त्रों के बीच में आकर खड़े हो गए तथा दोनों से प्रार्थना की अपने-अपने अस्त्रों को वापस ले लें। अर्जुन ने उनका कहना मान लिया, पर अश्वत्थामा ने कहा कि मुझे अपना अस्त्र रोकना नहीं आता। इन दोनों ऋषियों ने कहा कि अश्वत्थामा के अस्त्र प्रभाव से अभिमन्यु की पत्नी उत्तरा का गर्भ नष्ट होगा और अर्जुन के अस्त्र के बदले अश्वत्थामा को अपनी कोई बहुमूल्य वस्तु अर्जुन को देनी होगी। इस बात पर अश्वत्थामा को अपने मस्तक की मणि देनी पड़ी। मणि देते ही वह निस्तेज हो गया तथा व्यास के आश्रम में ही रहकर तपस्वी का जीवन बिताने लगा।

महाभारत की सम्पूर्ण कथा पढ़ें :-

सम्पूर्ण महाभारत कथा | Complete Mahabharata Story In Hindi

  1. आदि पर्व ~ महाभारत | Mahabharat – Aadi Parv In Hindi
  2. सभापर्व ~ महाभारत | Mahabharat Sabha Parv In Hindi
  3. वन पर्व ~ महाभारत | Van Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  4. विराट पर्व ~ महाभारत | Virat Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  5. उद्योग पर्व ~ महाभारत | Udyog Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  6. भीष्म पर्व ~ महाभारत | Bheeshm Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  7. द्रोण पर्व ~ महाभारत | Dron Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  8. कर्ण पर्व ~ महाभारत | Karna Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  9. शल्य पर्व ~ महाभारत | Shalya Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  10. सौप्तिक पर्व ~ महाभारत | Souptik Parva ~ Mahabharat Stories In Hindi
  11. स्त्री पर्व ~ महाभारत | Stree Parva ~ Mahabharat Stories In Hindi
  12. शान्ति पर्व ~ महाभारत | Shanti Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  13. अनुशासन पर्व ~ महाभारत | Anushasan Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  14. आश्वमेधिक पर्व महाभारत | Aashwamedhik Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  15. आश्रमवासिक पर्व ~ महाभारत | Aashramvasik Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  16. मौसल पर्व ~ महाभारत | Mausal Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  17. महाप्रास्थानिक पर्व ~ महाभारत | Mahaprasthanik Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  18. स्वर्गारोहण पर्व ~ महाभारत | Swargarohan Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi

महाभारत में उल्लेखित कुछ प्रमुख कथाएँ:-

· Rise of Kuruvansh Story From Mahabharata In Hindi | कुरु वंश की उत्पत्ति ~ महाभारत
· Birth Of Maharshi Vedvyas Story From Mahabharata In Hindi | महर्षि वेदव्यास के जन्म की कथा ~ महाभारत
· Birth Of Bheeshm And Akhand Vow Story From Mahabharat In HIndi ~ भीष्म जन्म तथा अखण्ड प्रतिज्ञा ~ महाभारत
· Birth Of Dhritrashtra, Pandu & Vidur Story From Mahabharat In Hindi| धृतराष्ट्र, पांडु व विदुर जन्म की कथा ~ महाभारत
· Birth Of Karna Story From Mahabharat In Hindi | दानवीर कर्ण के जन्म की कथा ~ महाभारत
· Birth Of Pandavas Story From Mahabharat In Hindi | पाण्डवों के जन्म की कथा ~ महाभारत
· Curse Of Karna Story From Mahabharata In Hindi | कर्ण को शाप की कथा ~ महाभारत
· Story Of Eklavya From Mahabharat In Hindi | एकलव्य की गुरुभक्ति ~ महाभारत
· Friendship Of Karna & Duryodhana Story Mahabharat | कर्ण-दुर्योधन के मित्रता की कथा ~ महाभारत
· Birth of Draupadi & Dhritdyumn Story In Hindi | द्रौपदी और धृष्टद्युम्न के जन्म की कथा ~ महाभारत
· The Varnavat Conspiracy Story ~ Mahabharat In Hindi | लाक्षागृह षड्यन्त्र ~ महाभारत
· The Swayamvara Of Draupadi Story From Mahabharata In Hindi | द्रौपदी स्वयंवर ~ महाभारत
· Marriage Of Pandavas & Draupadi Story From Mahabharata | पाण्डव-द्रौपदी विवाह ~ महाभारत
· Establishment Of Indraprastha Story Mahabharat| इन्द्रप्रस्थ की स्थापना ~ महाभारत
· Shakuni Cheated Pandavas In Gambling Story Mahabharat | कौरवों का कपट ~ महाभारत
· द्रौपदी चीरहरण ~ महाभारत
· Yaksha Yudhisthir Samvad Story From Mahabharat In Hindi | यक्ष-युधिष्ठिर संवाद ~ महाभारत
· अर्जुन को दिव्यास्त्र प्राप्ति ~ महाभारत
· युधिष्ठिर द्वारा दुर्योधन की रक्षा ~ महाभारत
· द्रौपदी हरण ~ महाभारत
· भीम द्वारा जयद्रथ की दुर्गति
· पाण्डवों का अज्ञातवास ~ महाभारत
· कीचक वध की कथा ~ महाभारत
· विराट नगर पर कौरवोँ का आक्रमण ~ महाभारत
· कृष्ण का शान्ति प्रस्ताव ~ महाभारत
· महाभारत युद्ध का आरम्भ
· भीष्म-अभिमन्यु वध ~ महाभारत
· जयद्रथ, घटोत्कच तथा गुरु द्रोण के वध की कथा ~ महाभारत
· कर्ण और अर्जुन का संग्राम और कर्ण वध ~ महाभारत
· भीम और दुर्योधन का संग्राम तथा दुर्योधन के वध की कथा ~ महाभारत
· परीक्षित के जन्म की कथा ~ महाभारत
· पाण्डवों का हिमालय गमन ~ महाभारत

(Highlights of this post: Ashwattham Kills Dhritdyumna and Pandawa’s Sons story mahabharata,Death of Draupadi’s sons mahabharata stories, Death of Dhritdyumna story in Hindi, Death of Duryodhana story of mahabharata in hindi, Lord Krishna Takes Mani Of Ashwatthama story Mahabharata, Lord Krishna punishes Ashwattham story mahabharata in hindi)

One thought on “सौप्तिक पर्व – महाभारत | Souptik Parva – Mahabharat Stories In Hindi”

Comments are closed.