News Chowk

Hindi news (हिंदी समाचार) website, Latest Khabar, Breaking News in Hindi, World, Latest News in Hindi, Sports, business, film and Entertainment. न्यूज़ चौक पर पढ़ें ताजा समाचार देश और दुनिया से, जाने व्यापार, बॉलीवुड, खेल और राजनीति के ख़बरें

इन्द्रप्रस्थ की स्थापना – महाभारत | Establishment Of Indraprastha Story Mahabharat in Hindi

1 min read

Establishment Of Indraprastha Story Mahabharat in Hindi: द्रौपदी के स्वयंवर से पहले विदुर को छोड़कर सभी पाण्डवों को मृत समझने लगे थे, इस कारण धृतराष्ट्र ने शकुनि के कहने पर दुर्योधन को युवराज बना दिया। द्रौपदी स्वयंवर के तत्पश्चात दुर्योधन आदि को पाण्डवों के जीवित होने का पता चला।

बाद में हस्तिनापुर वापस लौटकर पाण्डवों ने कौरवों से अपना राज्य मांगा, परन्तु गृहयुद्ध के संकट से बचने के लिए युधिष्ठिर ने कौरवों द्वारा दिए खण्डहर स्वरूप खाण्डव वन को आधे राज्य के रूप में स्वीकार कर लिया।

पाण्डवों की पांचाल राजा द्रुपद की पुत्री द्रौपदी से विवाह के उपरांत घनिष्ठ मित्रता हो गई, जिससे वे अब काफ़ी शक्तिशाली हो गए थे।

तब हस्तिनापुर के महाराज धृष्टराष्ट्र ने उन्हें राज्य में बुलाया। धृष्टराष्ट्र ने युधिष्ठिर को संबोधित करते हुए कहा- “हे कुंती पुत्र! अपने भ्राताओं के संग जो मैं कहता हूँ, सुनो। तुम खांडवप्रस्थ के वन को हटाकर अपने लिए एक शहर का निर्माण करो, जिससे कि तुममें और मेरे पुत्रों में कोई अंतर ना रहे। यदि तुम अपने स्थान में रहोगे, तो तुमको कोई भी क्षति नहीं पहुंचा पाएगा। पार्थ द्वारा रक्षित तुम खांडवप्रस्थ में निवास करो और आधा राज्य भोगो।”

धृतराष्ट्र के कथनानुसार पाण्डवों ने हस्तिनापुर से प्रस्थान किया। आधे राज्य के आश्वासन के साथ उन्होंने खांडवप्रस्थ के वनों को हटा दिया। उसके उपरांत पाण्डवों ने श्रीकृष्ण के साथ मय दानव की सहायता से उस शहर का सौन्दर्यीकरण किया। वह शहर एक द्वितीय स्वर्ग के समान हो गया। उसके बाद सभी महारथियों व राज्यों के प्रतिनिधियों की उपस्थिति में वहाँ द्वैपायन व्यास के सान्निध्य में एक महान यज्ञ और गृहप्रवेश अनुष्ठान का आयोजन हुआ। उसके बाद सागर जैसी चौड़ी खाई से घिरा, स्वर्ग गगनचुम्बी चहारदीवारी से घिरा व चंद्रमा या सूखे मेघों जैसा श्वेत वह नगर नागों की राजधानी, भोगवती नगर जैसा लगने लगा।

पाण्डवों द्वारा स्थापित इस सुन्दर नगर में अनगिनत प्रासाद तथा असंख्य द्वार थे। प्रत्येक द्वार गरुड़ के विशाल फ़ैले पंखों की तरह खुले थे। इस शहर की रक्षा हेतु दीवार में मंदराचल पर्वत जैसे विशाल द्वार थे। शस्त्रों से सुसज्जित इस सुरक्षित नगरी को दुश्मनों का एक बाण भी खरौंच तक नहीं सकता था।

उसकी दीवारों पर तोपें और शतघ्नियां रखीं थीं, जैसे दुमुंही सांप होते हैं। बुर्जियों पर सशस्त्र सेना के सैनिक लगे थे। उन दीवारों पर वृहत लौह चक्र भी लगे थे। यहाँ की सड़कें चौड़ी और साफ थीं। उन पर दुर्घटना का कोई भय नहीं था।

भव्य महलों, अट्टालिकाओं और प्रासादों से सुसज्जित यह नगरी इन्द्र की अमरावती से मुकाबला करती थी। इस कारण ही इसे ‘इन्द्रप्रस्थ’ नाम दिया गया। इस शहर के सर्वश्रेष्ठ भाग में पाण्डवों का महल स्थित था। इसमें कुबेर के समान खजाना और भंडार थे। इतने वैभव से परिपूर्ण इसको देखकर दामिनी के समान आंखें चौधिया जाती थीं।

भीष्म पितामह और धृतराष्ट्र के अपने प्रति दर्शित नैतिक व्यवहार के परिणामस्वरूप पाण्डवों ने खांडवप्रस्थ को इन्द्रप्रस्थ में परिवर्तित कर दिया। पाण्डु पुत्र अर्जुन ने श्रीकृष्ण के साथ खाण्डव वन को जला दिया और इन्द्र के द्वारा की हुई वृष्टि का अपने बाणों के बाँध से निवारण करते हुए अग्नि को तृप्त किया। वहाँ अर्जुन और कृष्ण ने समस्त देवताओं को युद्ध में परास्त कर दिया। इसके फलस्वरूप अर्जुन ने अग्नि देव से दिव्य गाण्डीव धनुष और उत्तम रथ प्राप्त किया। उसे युद्ध में भगवान श्रीकृष्ण जैसे सारथि मिले थे तथा उन्होंने द्रोणाचार्य से ब्रह्मास्त्र आदि दिव्य आयुध और कभी नष्ट न होने वाले बाण प्राप्त किये थे।

इन्द्र अपने पुत्र अर्जुन की वीरता देखकर अति प्रसन्न हुए। उनके कहने पर देवशिल्पि विश्वकर्मा और मय दानव ने मिलकर खाण्डव वन को इन्द्रपुरी जितने भव्य नगर में निर्मित कर दिया, जिसे ‘इन्द्रप्रस्थ’ नाम दिया गया था।

“आपको हमारा ये लेख केसा लगा हमे कमेंट्स बॉक्स में जरूर बतायें, यदि पसंद आया तो अपने मित्रो में व सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें। इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी लाइक/फ़ॉलो कर सकते हैं।”

इंजी० अभिनन्दन सिंह
संस्थापक एवं प्रधान सम्पादक – “न्यूज़ चौक

महाभारत की सम्पूर्ण कथा पढ़ें :-

सम्पूर्ण महाभारत कथा | Complete Mahabharata Story In Hindi

  1. आदि पर्व ~ महाभारत | Mahabharat – Aadi Parv In Hindi
  2. सभापर्व ~ महाभारत | Mahabharat Sabha Parv In Hindi
  3. वन पर्व ~ महाभारत | Van Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  4. विराट पर्व ~ महाभारत | Virat Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  5. उद्योग पर्व ~ महाभारत | Udyog Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  6. भीष्म पर्व ~ महाभारत | Bheeshm Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  7. द्रोण पर्व ~ महाभारत | Dron Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  8. कर्ण पर्व ~ महाभारत | Karna Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  9. शल्य पर्व ~ महाभारत | Shalya Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  10. सौप्तिक पर्व ~ महाभारत | Souptik Parva ~ Mahabharat Stories In Hindi
  11. स्त्री पर्व ~ महाभारत | Stree Parva ~ Mahabharat Stories In Hindi
  12. शान्ति पर्व ~ महाभारत | Shanti Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  13. अनुशासन पर्व ~ महाभारत | Anushasan Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  14. आश्वमेधिक पर्व महाभारत | Aashwamedhik Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  15. आश्रमवासिक पर्व ~ महाभारत | Aashramvasik Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  16. मौसल पर्व ~ महाभारत | Mausal Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  17. महाप्रास्थानिक पर्व ~ महाभारत | Mahaprasthanik Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi
  18. स्वर्गारोहण पर्व ~ महाभारत | Swargarohan Parv ~ Mahabharat Stories In Hindi

महाभारत में उल्लेखित कुछ प्रमुख कथाएँ:-

· Rise of Kuruvansh Story From Mahabharata In Hindi | कुरु वंश की उत्पत्ति ~ महाभारत
· Birth Of Maharshi Vedvyas Story From Mahabharata In Hindi | महर्षि वेदव्यास के जन्म की कथा ~ महाभारत
· Birth Of Bheeshm And Akhand Vow Story From Mahabharat In HIndi ~ भीष्म जन्म तथा अखण्ड प्रतिज्ञा ~ महाभारत
· Birth Of Dhritrashtra, Pandu & Vidur Story From Mahabharat In Hindi| धृतराष्ट्र, पांडु व विदुर जन्म की कथा ~ महाभारत
· Birth Of Karna Story From Mahabharat In Hindi | दानवीर कर्ण के जन्म की कथा ~ महाभारत
· Birth Of Pandavas Story From Mahabharat In Hindi | पाण्डवों के जन्म की कथा ~ महाभारत
· Curse Of Karna Story From Mahabharata In Hindi | कर्ण को शाप की कथा ~ महाभारत
· Story Of Eklavya From Mahabharat In Hindi | एकलव्य की गुरुभक्ति ~ महाभारत
· Friendship Of Karna & Duryodhana Story Mahabharat | कर्ण-दुर्योधन के मित्रता की कथा ~ महाभारत
· Birth of Draupadi & Dhritdyumn Story In Hindi | द्रौपदी और धृष्टद्युम्न के जन्म की कथा ~ महाभारत
· The Varnavat Conspiracy Story ~ Mahabharat In Hindi | लाक्षागृह षड्यन्त्र ~ महाभारत
· The Swayamvara Of Draupadi Story From Mahabharata In Hindi | द्रौपदी स्वयंवर ~ महाभारत
· Marriage Of Pandavas & Draupadi Story From Mahabharata | पाण्डव-द्रौपदी विवाह ~ महाभारत
· Establishment Of Indraprastha Story Mahabharat| इन्द्रप्रस्थ की स्थापना ~ महाभारत
· Shakuni Cheated Pandavas In Gambling Story Mahabharat | कौरवों का कपट ~ महाभारत
· द्रौपदी चीरहरण ~ महाभारत
· Yaksha Yudhisthir Samvad Story From Mahabharat In Hindi | यक्ष-युधिष्ठिर संवाद ~ महाभारत
· अर्जुन को दिव्यास्त्र प्राप्ति ~ महाभारत
· युधिष्ठिर द्वारा दुर्योधन की रक्षा ~ महाभारत
· द्रौपदी हरण ~ महाभारत
· भीम द्वारा जयद्रथ की दुर्गति
· पाण्डवों का अज्ञातवास ~ महाभारत
· कीचक वध की कथा ~ महाभारत
· विराट नगर पर कौरवोँ का आक्रमण ~ महाभारत
· कृष्ण का शान्ति प्रस्ताव ~ महाभारत
· महाभारत युद्ध का आरम्भ
· भीष्म-अभिमन्यु वध ~ महाभारत
· जयद्रथ, घटोत्कच तथा गुरु द्रोण के वध की कथा ~ महाभारत
· कर्ण और अर्जुन का संग्राम और कर्ण वध ~ महाभारत
· भीम और दुर्योधन का संग्राम तथा दुर्योधन के वध की कथा ~ महाभारत
· परीक्षित के जन्म की कथा ~ महाभारत
· पाण्डवों का हिमालय गमन ~ महाभारत

2 thoughts on “इन्द्रप्रस्थ की स्थापना – महाभारत | Establishment Of Indraprastha Story Mahabharat in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright NewsChowk © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.